कम जमीन मे भी होगी लाखों की खेती , जाने वेर्टिकल् फार्मिंग के बारे में ।

आज खेती भी समय के साथ साथ काफी आगे बढ़ रहा है। Log नये नये प्रयोग कर रहे है जिनमे से कहीं मे उनको सफलता भी मिल रहा है। लेकिन देखोगे तो खेती मे ऐसे ही बहुत सी चीज़े है जिसके बारे मे हम नही जानते ।

हरियाणा सरकार वेर्टिकल् फार्मिंग करने वाले को दे रही है अनुदान।

आज देश के किसान अन्य प्रकार की पद्धति को अपनाकर खेती कर रहे हैं। हरियाणा मे आज ज़्यदातर किसान वेर्टिकल् फार्मिंग को अपना रहा है जिससे उनको अच्छी खासी फ़ायदा भी हो रहा है। हरियाणा सरकार का भी वेर्टिकल् फार्मिंग का प्रोमोशन मे बहुत बड़ा हाथ है। हरियाणा की राज्य सरकार उन किसानों को अनुदान दे रही है जो वेर्टिकल् फार्मिंग अपना रहे है ।अगर आप वेर्टिकल् फार्मिंग द्वारा 1 एकड़ भूमि मे खेती कर रहे है तो आपको तकरीबन 1 लाख 42 हज़ार की लागत होगी लेकिन इसपर आपको हरियाणा सरकार की तरफ से 72 हज़ार अनुदान भी मिलेगा।

रोहतक जिले में काफी प्रसिद्ध वेर्टिकल् फार्मिंग ।

हरियाणा के रोहतक जिले में वेर्टिकल् फार्मिंग बहुत अधिक प्रसिद्ध है । हरियाणा की इस जिले मे बेल वाली सब्जी की खेती बांस-तार तरीके द्वारा बहुत अधिक प्रसिद्ध है । रोहतक जिले में ढाई सौ हेक्टर एरिया में वेर्टिकल् फार्मिंग के द्वारा किसान बेल वाली सब्जी उगा रहे है ।

वेर्टिकल् फार्मिंग से किसानों को मिल रहे कई लाभ

परंपरागत खेती में सिचाई के लिए काफी सारा पानी का प्रयोग होता है, इसलिए किसानों को वेर्टिकल् फार्मिंग अपनाने से अधिक लाभ मिल रहा है । भारत में इसे लंबवत खेती के नाम से जाना जाता है । वेर्टिकल् फार्मिंग मे लोग बांस – तार के साथ ज़्यादातर मात्रा में बेल वाली सब्जियों को उगाया जाता है, इनसे किसानों को अधिक मुनाफा दे रही है। बेल वाली सब्जियां मतलब जो गोलाकार और लम्बवत आकर में हो जैसे खीरा, तरबूज, खरबूज, करेला, टमाटर, लौकी और तोरी आदि सब्जी। इनके उत्पादन से किसानों को काफी लाभ मिल रहा है ।

कैसे करे वेर्टिकल् फार्मिंग ?

वेर्टिकल् फार्मिंग के लिए लगभग 1 एकड़ जमीन मे 60 mm की आकृति के 560 बार 8 मीटर एरिया में लगाने पड़ते। वहीं इसके बांस की हाईट लगभग 8 से 8.5 फीट अनिवार्य है और बसों को 3 मम के तारों से बंधा जाता है ताकि उनको अच्छा स्पोर्ट मिले जिससे वो टिक पाया। बांस के तार के अलावा लोहे के एंगल के उपयोग से ढांचे का निर्माण कर खेती कर सकते है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *