दो बार हुए फेल लेकिन बाइक साफ़ करते करते बदल गई ज़िन्दगी, आज है सालाना 1 करोड़ का टर्नओवर

आज हम एक ऐसे शख्स की कहानी लेकर आया है जिन्होंने लोगो को हार मिलने के बाद भी निराश नहीं होने के लिए प्रेरित करता है । ऐसे व्यक्ति जिन्होंने ज़िंदगी में 2 बार ठोकर खाकर भी अपना संगर्ष जारी रखा और आज एक बड़े कंपनी के है मालिक ।

बात दिल्ली के केशव राय की हो रहा है । जिनको अपने संगर्ष से काफ़ी सफलता प्राप्त हुआ । आज की कहानी उन सब लोगों के लिए प्रेरित है जो ज़िन्दगी में एक बार हार जाने के बाद मेहनत करना छोड़ देता है । आइए जानते है केशव के लॉसर से विनर तक का सफर को ।

पहले दो प्रयास में हुआ फ़ैल :

केशव राय शुरू से ही बिजनेस करने में मन था । इसी कारण उन्होंने एक बार उनके पापा से उधारी लेकर एक स्टार्टअप चालू किया । इस स्टार्टअप के जरिए केशव स्टूडेंट्स को स्टडी मटेरियल उपलब्ध करवाते थे । मगर इनको इस काम में कुछ भी हासिल नहीं हुआ उल्टा पापा का पैसे भी बेकार चले गए ।

इसके बाद केशव ने दूसरी कोशिश अपने कॉलेज के थर्ड ईयर में थे तब एक ऐप लॉन्च करके किया । इस ऐप के लिए उन्होंने पापा से ढाई लाख रुपए लिया । मगर लगातार प्रयास के बाद भी किसी कारण के चलते वो आप पूरा नहीं कर पाया और उनको इस काम भी निराशा हाथ लगी ।

फ़ैल होकर घर छोड़ दिया ।

दो बार निराशा हाथ लगाने के बाद केशव को किसी चीज में मन नहीं लग रहा था । उन्होंने अपनी अंदर की टैलेंट को पहचाने के लिए घर से चार – पांच दिन के लिए दूर चले गया। उन दिनों वो रेलवे स्टेशन , मेट्रो और बस स्टेशन में गुजारे।

बाइक साफ करते करते बदल गई ज़िन्दगी

एक दिन केशव ने एक चीज नोटिस की । दरअसल केशव जब रेलवे स्टेशन के बाहर अपना बाइक साफ़ करने के लिए डस्टर दूंद रहे थे तब उन्हें एक आइडिया आया कि गाड़ी की सफाई को लेकर कुछ काम किया जाए । तुरंत ये चीज घर जाकर उन्होंने अपने पापा से डिस्कस किया और पापा को बताया कि एक ऐसा चीज का निर्माण किया जाए जिससे गाड़ी साफ भी रहे और लोगो को वो चीज अपने साथ कैरी ना करने पड़े ।

बाइक ब्लेजर का किया निर्माण :-

पिता से डिस्कस करने के बाद उन्होंने गूगल पर रिसर्च करना चालू कर दिया और अपनी कठिन मेहनत से बाइक ब्लेजर का निर्माण किया । बाइक ब्लेजर बाइक को साफ़ भी रखता था और लोगो को उसको कैरी करने की भी जरूरत नहीं थी । उन्होंने बाइक ब्लेजर बनने के बाद सबसे पहले दिल्ली में एक ट्रेड फेयर में लॉन्च किया . जिसके बाद उनके प्रोडक्ट को काफी अच्छी प्रतक्रिया मिली वहां के लोगो से और कहानी सोशल मीडिया में वायरल हो गई ।

इसके बाद केशव राय ने 2018 में अपनी एक कंपनी खोल ली ,जिसका ब्रांच गाजियाबाद में भी मौजूद है । केशव बताता है कि आज उनकी सालाना आमदनी 1 करोड़ की है। आज उनका परिवार केशव की सफलता से बहुत खुश है और वो चाहते हैं कि दूसरे लोग भी एक बार असफल होने के बाद हार ना माने संगर्ष करते रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *